भारत - तिरंगा मुखपृष्ठ मुखपृष्ठ खरगौन (म.प्र.) में आपका स्वागत है
(भूतपूर्व - पश्चिम निमाड़)
 Welcome to Khargone (Madhya Pradesh)पीछे

(Formerly known as - West Nimar)अहिल्या घाट, महेश्वर

नवग्रह मन्दिर, खरगौन

ऊन के मन्दिर

महेश्वरी साड़ियां

इंडिया इमेज

भारत के जिले

मध्यप्रदेश पोर्टल

म.प्र. राज्य सूचना-विज्ञान केन्द्र

छायाचित्र

 

निमाड़ एवं महेश्वर का इतिहास लगभग 4500 वर्ष पुराना है। महेश्वर को रामायण काल में महिश्मति के नाम से जाना जाता था। रामायण काल में महिश्मति हैहय वंश के बलशाली शासक सहस्रार्जुन की राजधानी थी, जिसने रावण को भी परास्त किया था। महाभारत काल में यह शहर अनूप जनपद की राजधानी था।

 

महेश्वरी साड़ियों का इतिहास लगभग 250 वर्ष पुराना है। होलकर वंश की महान शासक देवी अहिल्याबाई होलकर ने यहां सन् 1767 में कुटीर उद्योग स्थापित करवाया था। गुजरात एवं भारत के अन्य शहरों से बुनकरों के परिवारों को उन्होने महेश्वर ला कर बसाया तथा उन्हे घर, व्यापार आदि की सुविधाएं प्रदान कीं। पहले केवल सूती साड़ियां ही बनाई जाती थीं परन्तु धीरे धीरे इसमें सुधार आता गया तथा अब उच्च गुणवत्ता वाली रेशमी तथा सोने व चांदी के धागों से बनी साड़ियां भी बनाई जाती हैं। वर्तमान में लगभग 1000 परिवार इस कुटीर उद्योग से जुड़े हुए हैं।

यह वेब-साइट खरगौन जिला प्रशासन की अधिकृत वेबसाइट है
दूरभाष : +91-7282-233601
कॉपीराइट                     अभिकल्पना एवं विकास राष्ट्रीय सूचना-विज्ञान केन्द्र        मुखपृष्ठ       जानकारी के प्रदाता जिलाध्यक्ष व जिला दण्डाधिकारी                     सम्पर्क